गंगाराम में 12 किलो के ट्यूमर की सर्जरी सफल

गंगाराम में 12 किलो के ट्यूमर की सर्जरी सफल

 नई दिल्ली, 23 जनवरी (आईएएनएस)| देश की राजधानी स्थित सर गंगाराम अस्पताल में 18 साल के एक मरीज के शरीर से अब तक का सबसे बड़ा 12 किलो का ट्यूमर सर्जरी करके सफलतापूर्वक निकाला गया।



कॉस्मेटिक सर्जरी के लिए उकसाती है सेल्फी

कॉस्मेटिक सर्जरी के लिए उकसाती है सेल्फी

 नई दिल्ली, 22 जनवरी (आईएएनएस)| सेल्फी लेना और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करना आजकल फैशन बन चुका है, लेकिन एक ताजा अध्ययन के निष्कर्ष आपको सेल्फी के बारे में सोचने के लिए मजबूर कर देंगे। एक निष्कर्ष यह भी है कि अपनी सेल्फी देखने के बाद कछ लोग कॉस्मेटिक सर्जरी कराने के लिए प्रेरित होते हैं।

मधुमेह के इलाज में स्टेम सेल के प्रयोग से जागी उम्मीद

मधुमेह के इलाज में स्टेम सेल के प्रयोग से जागी उम्मीद

 न्यूयॉर्क, 21 जनवरी (आईएएनएस)| इंसुलिन को छिपाने वाली बीटा कोशिकाओं में ह्यूमन स्टेम सेल्स को समाहित करने के तरीके की खोज के बाद अब शोधकर्ता इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि इस तरीके को अपनाकर रक्त में ग्लूकोज के स्तर को काबू में रखने में आसानी होगी।

दिल दुरुस्त रखने को आया 'स्टेअर स्नैकिंग'

दिल दुरुस्त रखने को आया 'स्टेअर स्नैकिंग'

 टोरंटो, 21 जनवरी (आईएएनएस)| दिनभर की भागदौड़ के बाद आज के जमाने में लोग कसरत या किसी भी शारीरिक गतिविधि के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं, ऐसे में व्यस्त दिनचर्या में से इस तरह की चीजों को वक्त न देने में ही भलाई समझते हैं।

आयुर्वेद के फार्मूलों पर नैनो टेक्नोलॉजी से होगा शोध

आयुर्वेद के फार्मूलों पर नैनो टेक्नोलॉजी से होगा शोध

 नई दिल्ली, 20 जनवरी (आईएएनएस)| जीवाजी विश्वविद्यालय ने आयुर्वेद दवा बनाने वाली कंपनी एमिल फार्मास्युटिकल के साथ आयुर्वेद की मौजूदा दवाओं के प्रमाणीकरण और नई दवाओं की खोज के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

स्वस्थ जीवनशैली के लिए 'डीटॉक्सीफिकेशन' कारगार

स्वस्थ जीवनशैली के लिए 'डीटॉक्सीफिकेशन' कारगार

नई दिल्ली, 20 जनवरी (आईएएनएस)| स्वस्थ जीवनशैली प्राप्त करने के लिए डीटॉक्सीफिकेशन एक अच्छा विकल्प है। यह शरीर का वजन घटाने में, उपवास के दौरान अंगों को आराम पहुंचाने, रक्त संचार सुधारने में और पसीना व मूत्र के माध्यम से शरीर से दूषित पदार्थो को बाहर करने में मदद करता है तथा शरीर को स्वस्थ पोषण प्रदान करता है।

बच्चों के पेट के जीवाणु फूड-एलर्जी से बचाव में सहायक

बच्चों के पेट के जीवाणु फूड-एलर्जी से बचाव में सहायक

न्यूयॉर्क, 19 जनवरी (आईएएनएस)| स्वस्थ बच्चों की आंतों में पाए जाने वाले जीवाणु (बैक्टीरिया) उनको भोजन से होने वाली एलर्जी से बचा सकता है। यह बात एक हालिया शोध में सामने आई है। समाचार एजेंसी 'सिन्हुआ' की रिपोर्ट के अनुसार, यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो, आरगॉन नेशनल लेबोरेटरी और इटली स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडेरिको-2 के शोधकर्ताओं ने हाल ही में किए गए एक शोध में पाया कि आंतों मे मिलने वाली बैक्टीरिया खाने-पीने से बच्चों को होने वाली एलर्जी से काफी हद तक बचाती है। तकरीबन आठ बच्चों को इस शोध में शामिल किया गया। इनमें से चार बिल्कुल स्वस्थ थे और चार ऐसे थे जिन्हें गाय के दूध से एलर्जी थी। इन बच्चों के पेट के जीवाणुओं को चूहों के समूहों में मल के नमूने के माध्यम से प्रत्यारोपित किया गया।

भारत में कुपोषण से निपटेगा माइक्रोसॉफ्ट अजूरे संचालित एआई एप

भारत में कुपोषण से निपटेगा माइक्रोसॉफ्ट अजूरे संचालित एआई एप

बेंगलुरू, 17 जनवरी (आईएएनएस)| जर्मनी की गैर-लाभकारी संस्था वेलथुंगगेरहिलफे ने माइक्रोसॉफ्ट अजूरे से संचालित एक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) स्मार्टफोन एप विकसित किया है, जो भारत में कुपोषण से निपटेगा।

'गतिहीन जीवनशैली से बढ़ रहा मोटापा'

'गतिहीन जीवनशैली से बढ़ रहा मोटापा'

गौतमबुद्ध नगर, 17 जनवरी (आईएएनएस)| मोटापा इस समय दुनिया की सबसे बड़ी समस्याओं में से है। इसके बढ़ते खतरे के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए नोएडा स्थित जेपी मल्टी सुपर-स्पेशियालिटी हॉस्पिटल ने एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें लोगों को मोटापे के कारण, रोकथाम तथा पोषण एवं व्यायाम की जरूरतों के बारे में जानकारी दी गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मोटापे को स्वास्थ्य के 10 मुख्य जोखिमों में से एक बताया है। 23 फीसदी से अधिक महिलाएं या तो मोटापे की शिकार हैं या उनका वजन सामान्य से कम है। यह दर पुरुषों (20 फीसदी) की तुलना में अधिक है।

स्वास्थ्य बीमा पारिस्थितिकी तंत्र बदलाव के दौर में

स्वास्थ्य बीमा पारिस्थितिकी तंत्र बदलाव के दौर में

नई दिल्ली, 17 जनवरी (आईएएनएस)| नए साल में प्रवेश करते समय हमारे लिए यह नजर रखने का समय है कि आने वाले महीनों में भारत में स्वास्थ्य बीमा पारिस्थितिकी तंत्र कैसे आगे बढ़ सकता है। यह समीक्षा करने का समय है कि स्वास्थ्य बीमा उद्योग में परिवर्तन के सबसे शक्तिशाली कारक क्या होंगे, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वे आज के उपभोक्ताओं को कैसे प्रभावित करेंगे।

वीडियो गैलरी

© 2019 आईएएनएस इंडिया प्राईवेट लिमिटेड.
हमें बुकमार्क करना ना भूलें! (CTRL-D)
साइट द्वारा डिज़ाइन किया गया: आईएएनएस