मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर ने शुरू किया 'फाइट फीवर' अभियान

मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर ने शुरू किया 'फाइट फीवर' अभियान

नई दिल्ली, 21 जुलाई (आईएएनएस)| मानसून में बारिश अपने साथ कई बीमारियां भी लेकर आती है। इस मौसम में मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर लिमिटेड ने मरीजों की देखभाल के लिए 'फाइट फीवर' अभियान शुरू किया है, जो 24 घंटे सेवा प्रदान करता है। इसके तहत मरीज अपनी जांच किसी भी समय घर पर ही करा सकते हैं। मेट्रोपोलिस नमूना लेने के छह घंटों के अंदर इसकी रिपोर्ट बापस कर देगा। इसके अलावा ये जांचें काफी कम कीमतों पर उपलब्ध कराई जा रही है और जांचों के साथ यह मरीज को समय पर इलाज शुरू कराने की सलाह भी देगा।



महिलाओं में गुर्दा संबंधी रोगों का खतरा पुरुषों से 5 फीसदी ज्यादा

महिलाओं में गुर्दा संबंधी रोगों का खतरा पुरुषों से 5 फीसदी ज्यादा

नई दिल्ली, 20 जुलाई (आईएएनएस)| किडनी (गुर्दा) से संबंधित रोग, पूरे विश्व में स्वास्थ्य चिंता का विषय हैं, जिसका गंभीर परिणाम किडनी फेलियर और समयपूर्व मृत्यु के रूप में सामने आता है। वर्तमान में किडनी रोग महिलाओं में मृत्यु का आठवां सबसे प्रमुख कारण है। महिलाओं में क्रॉनिक किडनी डिसीज (सीकेडी) विकसित होने की आशंका पुरुषों से 5 फीसदी ज्यादा होती है। गुरुग्राम स्थित नारायणा सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के नेफ्रोजिस्ट डॉ. सुदीप सिंह सचदेव कहते हैं कि सीकेडी को बांझपन और सामान्य गर्भावस्था व प्रसव के लिए भी रिस्क फैक्टर माना जाता है। इससे महिलाओं की प्रजनन क्षमता कम होती है और मां व बच्चे दोनों के लिए खतरा बढ़ जाता है, जिन महिलाओं में सीकेडी एडवांस स्तर पर पहुंच जाता है, उनमें हाइपर टेंसिव डिसआर्डर्स और समयपूर्व प्रसव होने की आशंका काफी अधिक हो जाती है।

सनस्क्रीन त्वचा कैंसर का खतरा 40 फीसदी घटाने में सक्षम

सनस्क्रीन त्वचा कैंसर का खतरा 40 फीसदी घटाने में सक्षम

सिडनी, 20 जुलाई (आईएएनएस)| सूरज की हानिकारक किरणों से त्वचा को बचाने या फिर अपनी रंगत बरकरार रखने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला सनस्क्रीन त्वचा कैंसर के खतरे को 40 फीसदी तक घटा सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, वैश्विक स्तर पर प्रत्येक वर्ष में नॉन-मेलेनोमा त्वचा कैंसर के 20 से 30 मामले और मेलेनोमा त्वचा कैंसर के 1,32,000 मामले सामने आते हैं।

एचआईवी संक्रमण से दिल के रोग का जोखिम दोगुना : शोध

एचआईवी संक्रमण से दिल के रोग का जोखिम दोगुना : शोध

लंदन, 20 जुलाई (आईएएनएस)| एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनोडेफिसियंसी वायरस) से संक्रमित लोगों में दिल के रोगों के होने की संभावना दोगुनी होती है।

देश में 3 में से 1 महिला पेल्विक दर्द से पीड़ित

देश में 3 में से 1 महिला पेल्विक दर्द से पीड़ित

 नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| देश में अधिकतर महिलाएं पेट के निचले हिस्से के दर्द से परेशान रहती हैं। पीरियड्स के दौरान या लंबे समय तक बैठे रहने से यह समस्या बढ़ जाती है।

350 ग्राम की बच्ची को मिला नया जीवन

350 ग्राम की बच्ची को मिला नया जीवन

 नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| हैदराबाद के रेनबो अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन कर दक्षिण पूर्वी एशिया में जन्मी बच्ची को बचाने में सफलता प्राप्त की है।

मानूसन का आनंद लें, मगर फ्लू से बचें

मानूसन का आनंद लें, मगर फ्लू से बचें

 नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| भारत में मानसून अपने साथ फ्लू जैसी बीमारियां भी लेकर आता है। इस मौसम में छोटे बच्चों से लेकर वयस्क भी फ्लू का शिकार होते हैं।

निवारक स्वास्थ्य देखभाल का बाजार 2022 तक 100 अरब डॉलर का होगा

निवारक स्वास्थ्य देखभाल का बाजार 2022 तक 100 अरब डॉलर का होगा

नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| रेडसीर की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक निवारक स्वास्थ्य देखभाल बाजार (प्रिवेंटिव हेल्थकेयर मार्केट) मौजूदा समय में 55 अरब डॉलर के करीब होने का अनुमान है, लेकिन इसके 2022 तक 100 अरब डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। इसके बढ़ने की वजह अत्यधिक वजन, मधुमेह, दिल से जुड़े रोगों व अल्पपोषण जैसे कारक हैं। निवारक स्वास्थ्य देखभाल के तहत आने वाले क्षेत्रों में स्वस्थ खाद्य पदार्थ और औषधीय पदार्थ, फिटनेस और खेल, स्वास्थ्य निगरानी और नैदानिक, उपचार और पर्यटन और स्वास्थ्य बीमा शामिल हैं। उपभोक्ताओं इलाज की तलाश के दौरान निवारक स्वास्थ्य देखभाल को अपना हिस्सा नहीं बनाते हैं। निवारक स्वास्थ्य देखभाल में प्राथमिक इलाज, चिकित्सा निगरानी उपकरण व चिकित्सा पर्यटन शामिल हैं।

मरीजों को विश्वसनीय होम्योपैथकि उत्पाद पहुंचाएगी बॉयरन इंडिया

मरीजों को विश्वसनीय होम्योपैथकि उत्पाद पहुंचाएगी बॉयरन इंडिया

नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| होम्योपैथी मानकों में वृद्धि और उच्च गुणवत्ता व विश्वसनीय होम्योपैथकि उत्पादों तक मरीज की पहुंच को सुनिश्चित करने के लिए बॉयरन फ्रांस की अनुषंगी कंपनी बॉयरन इंडिया ने भारत में पहली बार प्री-मेडिकेटेड स्टैंडर्डाइज्ड होम्योपैथकि दवाओं को पेश किया। बॉयरन इंडिया के प्रबंध निदेशक प्रशांत सुराना ने कहा, "हम फ्रांस में बने मल्टीडोज ट्यूब्स और सिंगल डोज के रूप में मेडिकेटेड ग्लोब्यूल्स को पेश कर रहे हैं। यह मरीजों को उच्चस्तरीय मानकीकरण और सुविधा प्रदान करते हैं। भारतीय मरीजों और चिकित्सकों को ऐसे उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों से फायदा होगा, जिसमें परिणामों के साथ साक्ष्य आधारित उत्पादों को शामिल किया गया है। इसी प्रकार के उत्पाद अमेरिका और यूरोप में बहुत अधिक कीमत पर उपलब्ध हैं।"

मानूसन आनंद लें, मगर फ्लू से बचें

मानूसन आनंद लें, मगर फ्लू से बचें

नई दिल्ली, 19 जुलाई (आईएएनएस)| भारत में मानसून अपने साथ फ्लू जैसी बीमारियां भी लेकर आता है। इस मौसम में छोटे बच्चों से लेकर वयस्क भी फ्लू का शिकार होते हैं। इसके अलावा बार-बार बदलते तापमान का भी शरीर पर बुरा असर पड़ता है, इसलिए मानसून का आनंद लेने के साथ-साथ खुद को स्वस्थ रखना भी जरूर है। नई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स में इंटरनल मेडिसीन सीनियर कंसल्टेंट डॉ. तरुण साहनी ने कहा, "फ्लू का संक्रमण हालांकि जानलेवा नहीं होता, लेकिन छोटे बच्चों और बुजुर्गो में इसके कारण कई समस्याएं हो सकती हैं। खासतौर पर उन लोगों पर इसका बुरा असर पड़ता है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली/इम्यून सिस्टम कमजोर हो।"

वीडियो गैलरी

© 2018 आईएएनएस इंडिया प्राईवेट लिमिटेड.
हमें बुकमार्क करना ना भूलें! (CTRL-D)
साइट द्वारा डिज़ाइन किया गया: आईएएनएस