बिकवाली के दबाव में 2 फीसदी से ज्यादा लुढ़के सेंसेक्स, निफ्टी (राउंडअप)
बिकवाली के दबाव में 2 फीसदी से ज्यादा लुढ़के सेंसेक्स, निफ्टी (राउंडअप)

--आईएएनएस

मुंबई, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)| भारतीय शेयर बाजार में भारी बिकवाली के दबाव में गुरुवार को प्रमुख शेयर सूचकांकों में दो फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई। विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों और रुपये में आई कमजोरी से घरेलू बाजार में बिकवाली बढ़ गई। कारोबारी सत्र के अंत में बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई)के 30 शेयरों का सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 759.74 अंक यानी 2.19 फीसदी की गिरावट के साथ 34,001.15 पर बंद हुआ।

वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र के मुकाबले 225.45 अंक यानी 2.16 फीसदी की गिरावट के साथ 10,234.65 पर बंद हुआ।

कमजोर विदेशी संकतों के कारण गुरुवार को कारोबार की शुरुआत नकारात्मक रुझानों के साथ हुई। सेंसेक्स सुबह में 697.07 अंकों की गिरावट के साथ 34,063.82 पर खुला और 34,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे लुढ़क कर 33,723.53 पर आ गया। हालांकि बाद में देसी करेंसी रुपये में सुधार आने से बाजार में भी रिकवरी आई और सेंसेक्स और 759.74 अंकों यानी 2.19 फीसदी गिरावट के साथ 34,001.15 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 290.3 अंकों की गिरावट के साथ 10,169.80 पर खुला और 225.45 अंकों या 2.16 फीसदी गिरावट के साथ 10,234.65 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,335.95 के ऊपरी और 10,138.60 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 21.52 अंकों की गिरावट के साथ 13,703.35 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 197.45 अंकों की गिरावट के साथ 13,800.41 पर बंद हुआ।

बीएसई के 19 सेक्टरों में दो तेल और गैस (2.88 फीसदी) और ऊर्जा (0.16 फीसदी) में तेजी रही।

गिरावट वाले सेक्टरों में धातु (3.77 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (3.21 फीसदी), रियल्टी (3.16 फीसदी), प्रौद्योगिकी (2.90 फीसदी) और आधारभूत सामाग्री (2.78 फीसदी) प्रमुख रहे।

सेंसेक्स में सबसे ज्यादा गिरावट वाले शेयरों में एसबीआई (5.74 फीसदी), टाटा स्टील (4.60 फीसदी), वेदांता लिमिटेड (4.45 फीसदी), एमएंडएम (4.44 फीसदी) और अदाणी पोर्ट्स (3.66 फीसदी) शामिल हैं।

वहीं, ओएनजीसी (2.86 फीसदी) और यस बैंक (2.54 फीसदी) और हिंदुस्तानलीवर (0.9 फीसदी) बढ़त बनाने वाले शेयरों में शुमार हैं।

बीएसई के कुल 1,765 शेयरों में गिरावट और 819 में बढ़त दर्ज की गई। वहीं, जबकि 147 शेयर सपाट बंद हुए।

बाजार के जानकार बताते हैं कि अमेरिकी बांड बाजार में तेजी आने के कारण विदेशी निवेशक भारतीय शेयर बाजार से अपने पैसे निकाल रहे हैं, यही कारण है कि शेयर बाजार में मंदी का माहौल बन गया है।

डॉलर के मुकाबले रुपया 18 पैसे की मजबूती के साथ 74.20 पर बंद हुआ। इससे पहले रुपये में रिकॉर्ड निचला स्तर 74.48 तक की गिरावट आई। भारतीय रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप के बाद रुपया संभला।

 

© 2018 आईएएनएस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड। सर्वाधिकार सुरक्षित।
किसी भी रूप में कहानी / फोटोग्राफ के प्रजनन कानूनी कार्रवाई के लिए उत्तरदायी होगा।

समाचार, विचार और गपशप के लिए, अनुगमन करें @IANSLIVE at ट्विटर हमें यहाँ तलाशें फेसबुक पर भी!

अंतिम नवीनीकृत: 11 अक्टूबर, 2018

संबंधित समाचार
संबंधित विषय

व्यापार



वीडियो गैलरी

© 2018 आईएएनएस इंडिया प्राईवेट लिमिटेड.
हमें बुकमार्क करना ना भूलें! (CTRL-D)
साइट द्वारा डिज़ाइन किया गया: आईएएनएस