ताज़ा खबर
सेंसेक्स 1200 अंक लुढ़का, निफटी में 4 फीसदी की गिरावट (लीड-2)

सेंसेक्स 1200 अंक लुढ़का, निफटी में 4 फीसदी की गिरावट (लीड-2)  

01 अप्रैल, 2020  

मुंबई, 1 अप्रैल (आईएएनएस)| कोरोना के कहर से बने निराशाजनक माहौल में बिकवाली के भारी के चलते बुधवार को बंबई स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 1200 अंक से ज्यादा लुढ़ककर 28,265 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी चार फीसदी टूटकर 8,254 के करीब बंद हुआ।



केरल में किसानों ने 80,000 लीटर दूध नाली में बहाया

केरल में किसानों ने 80,000 लीटर दूध नाली में बहाया  (01 अप्रैल, 2020)

तिरुवनंतपुरम, 1 अप्रैल (आईएएनएस)| तमिलनाडु ने केरल के उत्तरी जिलों से दूध की आपूर्ति रोक लगा दी है। चाय की दुकानें तक बंद रहने से दूध की खपत नहीं हो पा रही है। ऐसी स्थिति में बुधवार को पलक्कड़ जिले में किसानों ने लगभग 80,000 लीटर दूध नाली में बहा दिया। किसानों से दूध एकत्रित कर उसे बजारों में बचने वाले एक दूध विक्रेता ने कहा, "कोरोनावायरस महामारी का फैलाव रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन है। इस परिस्थिति में दूध को नाले में फेंकने के अलावा हमारे पास और कोई विकल्प नहीं है, क्योंकि सभी चाय की दुकानें और रेस्तरां बंद हैं, इसके अलावा तमिलनाडु ने अपने राज्य में ट्रकों के आवागमन पर रोक लगा दी है।"

गेहूं की आपूर्ति नहीं होने से शहरों में आटे की किल्लत

गेहूं की आपूर्ति नहीं होने से शहरों में आटे की किल्लत  (01 अप्रैल, 2020)

नई दिल्ली, 1 अप्रैल (आईएएनएस)| देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति दुरुस्त करने को लेकर सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश में अनाज मंडियां बंद होने के कारण शहरों में आटे की किल्लत हो गई है, लेकिन गांवों में ऐसी समस्या नहीं है। कारोबारियों ने बताया कि गांवों में किसानों के पास खुद का गेहूं है और पीडीएस के तहत लोगों को मिलने वाला अनाज भी कुछ मात्रा में बाजार में आ जाता है, जिसके कारण वहां गेहूं की आपूर्ति की समस्या नहीं है। लेकिन संपूर्ण दक्षिण भारत समेत देश के बड़े शहरों में स्थित मिलों को गेहूं की आपूर्ति मुख्य रूप से मध्यप्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से होती है, जहां की अनाज मंडियां बंद पड़ी हैं, जिसके कारण शहरों में आटे की किल्लत हो गई है।

कोरोना के कहर उबरने की उम्मीद में बाजार, विदेशी संकेतों से मिलेगी दिशा-आउटलुक

कोरोना के कहर उबरने की उम्मीद में बाजार, विदेशी संकेतों से मिलेगी दिशा-आउटलुक  (29 मार्च, 2020)

नई दिल्ली, 29 मार्च (आईएएनएस)| पूरी दुनिया में कहर बरपा रहे कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण मिल रही आर्थिक चुनौतियों का सामना करने के लिए भारत समेत दुनिया के अनेक देशों की सरकारों और केंद्रीय बैंकों ने आर्थिक मोर्चे पर राहत के कदम उठाए हैं। ऐसे में बाजार को कोरोना के कहर से उबरने की उम्मीद बनी रहेगी, हालांकि भारतीय शेयर बाजार की चाल विदेशी संकेतों और प्रमुख आर्थिक आंकड़ों से ही तय होगी। जानकार बताते हैं कि कोरोना के कहर के चलते लगातार बीते छह सप्ताह की गिरावट के बाद घरेलू शेयर बाजार में इस सप्ताह सुधार की उम्मीद की जा रही है, हालांकि कोरोनावायरस के प्रकोप से मिल रही वैश्विक आर्थिक मंदी की आहट के कारण निवेशक फिलहाल सावधानी बरतने की कोशिश करेंगे।

लॉकडाउन में खेती-किसानी को छूट व्यावहारिक फैसला : तोमर

लॉकडाउन में खेती-किसानी को छूट व्यावहारिक फैसला : तोमर  (28 मार्च, 2020)

नई दिल्ली, 28 मार्च (आईएएनएस)| केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कोरोनावायरस के कहर से निपटने के लिए किए गए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान खेती-किसानी और इससे संबंधित सेवाओं में दी गई छूट को व्यावहारिक फैसला बताया है। सरकार ने फसलों की बुवाई व कटाई से लेकर कृषि उत्पादों की बिक्री के लिए मंडियों और खेती से जुड़ी तमाम आवश्यक सेवाओं को बहाल रखने का फैसला लिया है। तोमर ने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का आभार जताते हुए कहा कि इससे किसानों को सहूलियत मिलेगी।


वीडियो गैलरी

© 2020 आईएएनएस इंडिया प्राईवेट लिमिटेड.
हमें बुकमार्क करना ना भूलें! (CTRL-D)
साइट द्वारा डिज़ाइन किया गया: आईएएनएस